2009

गीत: चुपके-चुपके चल री पुरवाइया | Chupke chuple chal ri purvaiya
फ़िल्म: चुपके-चुपके (1975) | Chupke-Chupke
संगीतकार: सचिन देव बर्मन | Sachin Dev Burman
कलाकार: जया भादुड़ी, अमिताभ बच्चन | Jaya Bhaduri, Amitabh Bachchan, Rishikesh Mukherji
स्वर: लता मंगेश्कर | Lata Mangeshkar



गीत के बोल:

चुपके-चुपके चल री पुरवाइया -2
बाँसुरी बजाये रे रास रचाये,
दइया रे दइया,
गोपियों संग कन्हैया...

चुपके-चुपके चल री पुरवाइया -2

पागल पवन से कैसे कोई बोले -2
गोरी के मुख से घूँघटा न खोले
डोले हौले से मन की नैय्या,
गोपियों संग कन्हैया...

चुपके-चुपके चल री पुरवाइया -2

ऐसे समय पे कोई चुप भी रहे कैसे -2
बाँध लिए रुत ने पग में घुँघरू जैसे
नाचे मन ता थैय्या ता थैय्या
गोपियों संग कन्हैया...

चुपके-चुपके चल री पुरवाइया -2
8

Phool Bane Angaare

गीत: वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा | Watan Pe Jo Fida Hoga, Amar Wo Naujawaan Hoga
फ़िल्म: फूल बने अंगारे (1963) | Phool Bane Angaare
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी | Kalyanji-Anandji
फ़िल्मांकन: माला सिन्हा, राजकुमार | Mala Sinha, Rajkumar
गीतकार: आनंद बक्षी । Anand Bakshi
स्वर: मो. रफ़ी | Md Rafi



गीत के बोल:
हिमाला की बुलन्दी से, सुनो आवाज़ है आयी
कहो माँओं से दें बेटे, कहो बहनों से दें भाई

वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा
रहेगी जब तलक दुनिया, यह अफ़साना बयाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा

हिमाला कह रहा है इस वतन के नौजवानों से
खड़ा हूँ संतरी बनके मैं सरहद पे ज़मानों से
भला इस वक़्त देखूँ कौन मेरा पासबाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा

चमन वालों की ग़ैरत को है सैय्यादों ने ललकारा
उठो हर फूल से कह दो कि बन जाये वो अंगारा
नहीं तो दोस्तों रुसवा, हमारा गुलसिताँ होगा

वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा
रहेगी जब तलक दुनिया, यह अफ़साना बयाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा अमर वो नौजवाँ होगा

हमारे एक पड़ोसी ने, हमारे घर को लूटा है
हमारे एक पड़ोसी ने, हमारे घर को लूटा है
भरम इक दोस्त की बस दोस्ती का ऐसे टूटा है
कि अब हर दोस्त पे दुनिया को दुश्मन का गुमाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा

सिपाही देते हैं आवाज़, माताओं को, बहनों को
हमें हथियार ले दो, बेच डालो अपने गहनों को
कि इस क़ुर्बानी पे क़ुर्बां वतन का हर जवाँ होगा

वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा
रहेगी जब तलक दुनिया, यह अफ़साना बयाँ होगा
वतन पे जो फ़िदा होगा, अमर वो नौजवाँ होगा
6

गीत: भोर भये पनघट पे मोहे नटखट श्याम सताये | Bhor bhaye panghat pe mohe natkhat shyam sataye
फ़िल्म: सत्यम् शिवम् सुन्दरम् (1978)| Satyam Shivam Sundaram
गीतकार: आनन्द बक्षी | Anand Bakhsi
संगीतकार: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल | Laxmikant-Pyarelal
स्वर: लता मंगेश्कर | Lata Mangeshkar

Satyam Shivam Sundaram 1978



गीत के बोल:


खिले है आशा के फूल मन में
यह राज़ हमने छुपाया हमने
क़दम मुबारक़ हमारे दर पे
नसीब हमने जगाया हमने

होऽ -२ आऽऽऽऽऽ
होऽ होऽ...
भोर भये पनघट पे मोहे नटखट श्याम सताये
मोरी चुनरिया लिपटी जाये
मैं का करूँ हाय राम हाय
भोर भये पनघट पे

कोई सखी सहेली नाहीं संग मैं अकेली
कोई देखे तो ये जाने
पनिया भरने के बहाने
गगरी उठाये राधा श्याम से
हाय-हाय श्याम से मिलने जाये हाय
भोर भये पनघट पे मोहे नटखट श्याम सताये
भोर भये पनघट पे

आये पवन झकोरा टूटे अंग-अंग मोरा
चोरी-चोरी चुपके-चुपके
बैठा कहीं पे वो छुपके
देखे मुस्काये निरलज को
निरलज को लाज न आये हाय
भोर भये पनघट पे मोहे नटखट श्याम सताये
भोर भये पनघट पे

मैं न मिलूँ डगर में तो वोह चला आये घर में
मैं दूँ गाली मैं दूँ झिड़की
मैं ना खोलूँ बंद खिड़की
निंदिया जो आये तो वो कंकर
हाय-हाय कंकर मार जगाये हाय
भोर भये पनघट पे मोहे नटखट श्याम सताये
मोरी चुनरिया लिपटी जाये
मैं का करूँ हाय राम हाय हाय
भोर भये पनघट पे
3

गीत: मोहे छेड़ो न नंद के लाला | Mohe ChheDo Na Nand Ke Lala
फ़िल्म: लम्हे (1991) | Lamhe 1991
संगीतकार: शिव-हरि | Shiv Hari
स्वर: लता मंगेश्कर | Lata Mangeshkar
गीतकार: आनंद बक्षी । Anand Bakshi

Lamhe 1991 Film Yash Chopra




गीत के बोल:
ओ ओ ओ ओ
मोहे छेड़ो न
हो मोहे छेड़ो न नन्द के लाला
मैं हूँ ब्रजबाला
कि मैं नहीं राधा तेरी
मोहे छेड़ो न नन्द के लाला
नहीं मैं राधा तेरी
मोहे छेड़ो न ...

काहे पकड़ ली मेरी कलाई तेरी दुहाई ओ कृष्णा कन्हाई -२
हरजाई तू बंसरी वाला
कि मैं ब्रजबाला नहीं मैं राधा तेरी
मोहे छेड़ो न ...

राधा से होगी -२
तेरी ठिठोली
आँख मिचौली तुम हमजोली
होली में मुझे क्यों रंग डाला
मैं हूँ ब्रजबाला नहीं मैं राधा तेरी
मोहे छेड़ो न ...
5

मोहब्बत के एहसास से लबरेज़ इस सुहाने सदाबहार गीत का लुत्फ़ उठायें। यह गीत जवाँ दिलों का साज़ है। हर दिल के किसी न किसी कोने में ज़िन्दा है और धड़कत रहता है।


Original Song



Instant Karma, Shaan - Hum Bewafa



गीत: हम बेवफ़ा हरगिज़ न थे | Ham bewafa hargiz na the
फ़िल्म: शालीमार (1978) | Shalimar 1978
संगीतकार: आर डी बर्मन | R D Burman
स्वर: किशोर कुमार | Kishor Kumar

गीत के बोल:

हम बेवफ़ा हरगिज़ न थे
पर हम वफ़ा कर न सके
हमको मिली उसकी सज़ा
हम जो ख़ता कर न सके
हम बेवफ़ा हरगिज़ न थे
पर हम वफ़ा कर न सके

कितनी अकेली थीं वो राहें हम जिनपे
अब तक अकेले चलते रहे
तुझसे बिछड़ के भी ओ बेख़बर
तेरे ही ग़म में जलते रहे
तूने किया जो शिक़वा
हम वो गिला कर न सके
हम बेवफ़ा हरगिज़ न थे
पर हम वफ़ा कर न सके

तुमने जो देखा सुना सच था मगर
कितना था सच ये किसको पता
जाने तुम्हें मैंने कोई धोखा दिया
जाने तुम्हें कोई धोखा हुआ
इस प्यार में सच झूठ का
तुम फ़ैसला कर न सके
हम बेवफ़ा हरगिज़ न थे
पर हम वफ़ा कर न सके
4

Editor

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget