भोर भये पनघट पे, मोहे नटखट श्याम सताये - सत्यम् शिवम् सुन्दरम् (१९७८)

गीत: भोर भये पनघट पे मोहे नटखट श्याम सताये | Bhor bhaye panghat pe mohe natkhat shyam sataye
फ़िल्म: सत्यम् शिवम् सुन्दरम् (1978)| Satyam Shivam Sundaram
गीतकार: आनन्द बक्षी | Anand Bakhsi
संगीतकार: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल | Laxmikant-Pyarelal
स्वर: लता मंगेश्कर | Lata Mangeshkar

Satyam Shivam Sundaram 1978



गीत के बोल:


खिले है आशा के फूल मन में
यह राज़ हमने छुपाया हमने
क़दम मुबारक़ हमारे दर पे
नसीब हमने जगाया हमने

होऽ -२ आऽऽऽऽऽ
होऽ होऽ...
भोर भये पनघट पे मोहे नटखट श्याम सताये
मोरी चुनरिया लिपटी जाये
मैं का करूँ हाय राम हाय
भोर भये पनघट पे

कोई सखी सहेली नाहीं संग मैं अकेली
कोई देखे तो ये जाने
पनिया भरने के बहाने
गगरी उठाये राधा श्याम से
हाय-हाय श्याम से मिलने जाये हाय
भोर भये पनघट पे मोहे नटखट श्याम सताये
भोर भये पनघट पे

आये पवन झकोरा टूटे अंग-अंग मोरा
चोरी-चोरी चुपके-चुपके
बैठा कहीं पे वो छुपके
देखे मुस्काये निरलज को
निरलज को लाज न आये हाय
भोर भये पनघट पे मोहे नटखट श्याम सताये
भोर भये पनघट पे

मैं न मिलूँ डगर में तो वोह चला आये घर में
मैं दूँ गाली मैं दूँ झिड़की
मैं ना खोलूँ बंद खिड़की
निंदिया जो आये तो वो कंकर
हाय-हाय कंकर मार जगाये हाय
भोर भये पनघट पे मोहे नटखट श्याम सताये
मोरी चुनरिया लिपटी जाये
मैं का करूँ हाय राम हाय हाय
भोर भये पनघट पे

Post a Comment

[disqus][blogger]

Editor

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget