August 2012

गीत: उड़ी बाबा
चित्रपट: विधाता (1982)
संगीत: कल्याण जी आनंद जी
गीतकार: आनंद बक्षी
स्वर: आशा भोंसले

Vidhaata 1982
Album Cover Vidhaata 1982

संस्करण १:


Udi Baba - Vidhaata (1982) from Vinay Prajapati on Vimeo.

गीत के बोल:

आ आ
आ आ ई ई ऊ ऊ ऐ ऐ
उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
आ आ
आ आ ई ई ऊ ऊ ऐ ऐ
उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
आ आ
आ आ ई ई ऊ ऊ ऐ ऐ
उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा

बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा

नशा ये कैसा उड़ी बाबा
मुझे हो गया उड़ी बाबा
नशा ये कैसा मुझे हो गया
दिल मेरा खो गया
आ आ ई ई ऊ ऊ ऐ ऐ
उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
आ आ ई ई ऊ ऊ ऐ ऐ
उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा

हे,
हा आ आ आ, हा आ आ आ
हा आ आ आ, हा आ आ आ
बैंग बैंग, आ
बैंग बैंग, आ
बैंग बैंग, आ
बैंग
ओ मैं आ गयी जाने किधर
मुझको नहीं इसकी ख़बर
दीवानी लड़की ये लगती ऐसे दीवानों की महफ़िल है
यहाँ पे आना आसान हैं पर यहाँ से जाना मुश्किल है

उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा

नशा ये कैसा उड़ी बाबा
मुझे हो गया उड़ी बाबा
नशा ये कैसा मुझे हो गया
दिल मेरा खो गया
आ आ ई ई ऊ ऊ ऐ ऐ
उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा

हा आ आ आ, हा आ आ आ
हा आ आ आ, हा आ आ आ
बैंग बैंग, आ
बैंग बैंग, आ
बैंग बैंग, आ
बैंग
ओ कितनी हसीं ये रात है
क्या ये मेरी बारात है
हा हा, थोड़ी देर में तेरा दूल्हा राजा यहाँ पे आयेगा
अपनी रानी को डोली में बिठा के तुझे ले जायेगा

उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा

नशा ये कैसा उड़ी बाबा
मुझे हो गया उड़ी बाबा
नशा ये कैसा मुझे हो गया
दिल मेरा खो गया
आ आ ई ई ऊ ऊ ऐ ऐ
उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
आ आ ई ई ऊ ऊ ऐ ऐ
उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा

आ आ ई ई ऊ ऊ ऐ ऐ
उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
आ आ ई ई ऊ ऊ ऐ ऐ
उड़ी बाबा उड़ी बाबा उड़ी बाबा
4

गीत: चाँद आहें भरेगा, फूल दिल थाम लेंगे | Chand aahein bharega
फ़िल्म: फूल बने अंगारे (१९६३) । Phool bane angaare 1963
संगीतकार: कल्याणजी-आनंदजी | Kalyanji Anandji
फ़िल्मांकन: माला सिन्हा, राजकुमार | Mala Sinha, Rajkumar
स्वर: मुकेश । Mukesh



गीत के बोल:

चाँद आहें भरेगा, फूल दिल थाम लेंगे
चाँद आहें भरेगा, फूल दिल थाम लेंगे
हुस्न की बात चली तो सब तेरा नाम लेंगे

ऐसा चेहरा हैं तेरा, जैसे रोशन सवेरा
जिस जगह तू नहीं है उस जगह है अँधेरा
ऐसा चेहरा हैं तेरा, जैसे रोशन सवेरा
जिस जगह तू नहीं है उस जगह है अँधेरा

कैसे फिर चैन तुझ बिन तेरे बदनाम लेंगे
कैसे फिर चैन तुझ बिन तेरे बदनाम लेंगे
हुस्न की बात चली तो सब तेरा नाम लेंगे

चाँद आहें भरेगा...

आँख नाज़ुक-सी कलियाँ, बात मिसरी की डालियाँ
होंठ गंगा के साहिल ज़ुल्फें,जन्नत की गलियाँ
आँख नाज़ुक-सी कलियाँ,बात मिसरी की डालियाँ
होंठ गंगा के साहिल ज़ुल्फें,जन्नत की गलियाँ

तेरी ख़ातिर फ़रिश्तें, सर पे इल्ज़ाम लेंगे
तेरी ख़ातिर फ़रिश्तें, सर पे इल्ज़ाम लेंगे
हुस्न की बात चली तो सब तेरा नाम लेंगे

चाँद आहें भरेगा...

चुप न होगी हवा भी,कुछ कहेगी घटा भी
और मुमकिन है तेरा,ज़िक्र कर दे ख़ुदा भी
चुप न होगी हवा भी,कुछ कहेगी घटा भी
और मुमकिन है तेरा,ज़िक्र कर दे ख़ुदा भी

फिर तो पत्थर भी शायद जफ्त से काम लेंगे
फिर तो पत्थर भी शायद जफ्त से काम लेंगे

चाँद आहें भरेगा फूल दिल थाम लेंगे
हुस्न की बात चली तो सब तेरा नाम लेंगे

चाँद आहें भरेगा चाँद आहें भरेगा फूल दिल थाम लेंगे
हुस्न की बात चली तो सब तेरा नाम लेंगे...
4

गीत: राम करे ऐसा हो जाये | Ram Kare Aisa Ho Jaye Meri Nindiya Tohe Mil Jaye
चित्रपट: मिलन (1967) | Milan 1967
संगीत: लक्ष्मीकांत - प्यारेलाल | Laxmikant-Pyarelal
गीतकार: आनंद बक्षी | Anand Bakshi
स्वर: मुकेश | Mukesh

Milan 1967 Film




गीत के बोल:
राम करे ऐसा हो जाये
मेरी निंदिया तोहे मिल जाये
मैं जागूँ तू सो जाये

गुज़र जायें सुख से तेरी
दुःख भरी रतियाँ
बदल दूँ मैं तोसे अँखियाँ
गुज़र जायें सुख से तेरी
दुःख भरी रतियाँ
बदल दूँ में तोसे अँखियाँ
बस में अगर हो यह बतियाँ
माँगूँ दुआएँ हाथ उठाये
मेरी निंदिया तोहे मिल जाये
मैं जागूँ तू सो जाये
मैं जागूँ तू सो जाये, हो ओ

तू ही नहीं मैं ही नहीं
सारा ज़माना
दर्द का है एक फ़साना
तू ही नहीं मैं ही नहीं
सारा ज़माना
दर्द का है एक फ़साना
आदमी हो जाए दीवाना
याद करे गर भूल न जाए
मेरी निंदिया तोहे मिल जाए
मैं जागूँ तू सो जाये
मैं जागूँ तू सो जाये, हो ओ

स्वप्न चला आये कोई
चोरी चोरी
मस्त पवन गाये लोरी
स्वप्न चला आये कोई
चोरी चोरी
मस्त पवन गाये लोरी
चन्द्र किरण बन के डोरी
तेरे मन को झूला झुलाये
मेरी निंदिया तोहे मिल जाये
मैं जागूँ तू सो जाये
मैं जागूँ तू सो जाये, हो ओ

राम करे ऐसा हो जाये
मेरी निंदिया तोहे मिल जाये
मैं जागूँ तू सो जाये
मैं जागूँ
मैं जागूँ
4

Naam 1986 Hindi Film Cover

गीत: चिट्ठी आयी है, आयी है, चिट्ठी आयी है | Chitthi aayi hai
चित्रपट: नाम १९८६ | Naam 1986
संगीत: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल | Laxmikant Pyarelal
गीतकार: आनंद बक्षी | Anand Bakshi
स्वर: पंकज उधास | Pankaj Udhas

विडियो गीत:



गीत के बोल:
चिट्ठी आयी है, आयी है, चिट्ठी आयी है
चिट्ठी आयी है, वतन से चिट्ठी आयी है

बड़े दिनों के बाद, हम बे-वतनों को याद
वतन की मिट्टी आयी है...

ऊपर मेरा नाम लिखा है, अन्दर ये पैग़ाम लिखा है
ओ परदेस को जाने वाले, लौटके फिर न आने वाले
सात समुंदर पार गया तू, हमको ज़िंदा मार गया तू
ख़ून के रिश्ते तोड़ गया तू, आँख में आँसू छोड़ गया तू
कम खाते हैं कम सोते हैं, बहुत ज़ियादा हम रोते हैं

चिट्ठी आयी है, आयी है, चिट्ठी आयी है
चिट्ठी आयी है, वतन से चिट्ठी आयी है

सूनी हो गयी शहर की गलियाँ, काँटे बन गयी बाग़ की कलियाँ
कहते हैं सावन के झूले, भूल गया तू हम न भूले
तेरे बिन जब आयी दिवाली, दीप नहीं दिल जले हैं ख़ाली
तेरे बिन जब आयी होली, पिचकारी से छूटी गोली
पीपल सूना पनघट सूना, घर शमशान का बना नमूना
फ़सल कटी आयी बैसाखी, तेरा आना रह गया बाक़ी

चिट्ठी आयी है, आयी है, चिट्ठी आयी है
चिट्ठी आयी है, वतन से चिट्ठी आयी है

पहले जब तू ख़त लिखता था, काग़ज़ में चेहरा दिखता था
बंद हुआ ये मेल भी अब तो, ख़त्म हुआ ये खेल भी अब तो
डोली में बैठी है बहना, रस्ता देख रहे थे नयना
मैं बाप हूँ मेरा क्या है, तेरी माँ का हाल बुरा है
तेरी बीवी करती है सेवा, सूरत से लगती है बेवा
तूने पैसा बहुत कमाया, इस पैसे ने देस छुड़ाया
देस पराया छोड़ के आ जा, पंछी पिंजरा तोड़ के आ जा
आ जा उमर बहुत है छोटी, अपने घर में भी है रोटी

चिट्ठी आयी है, आयी है, चिट्ठी आयी है
चिट्ठी आयी है, वतन से चिट्ठी आयी है
2

गीत: हाथों की चंद लक़ीरों का | Haathon Ki Chand Lakeeron Ka
चित्रपट: विधाता (१९८२) | Vidhaata (1982)
संगीत: कल्याणजी आनंदजी | Kalyanji Anandji
गीतकार: आनंद बक्षी | Anand Bakshi
स्वर: अनवर और सुरेश वाडकर | Anwar and Suresh Wadkar





गीत के बोल:

हाथों की चंद लक़ीरों का
सब खेल है बस तक़दीरों का
तक़दीर है क्या मैं क्या जानूँ
मैं आशिक़ हूँ तद्बीरों का

अपनी तक़दीर से कौन लड़े
पनघट पे प्यासे लोग खड़े
मुझको करने है काम बड़े
है शौक़ तुम्हें तक़दीरों का

मैं मालिक अपनी क़िस्मत का
मैं बंदा अपनी हिम्मत का
देखेंगे तमाशा दौलत का
हम भेस बदलके फ़क़ीरों का

देखेंगे खेल तक़दीरों का
देखेंगे खेल तक़दीरों का
तक़दीर है क्या मैं क्या जानूँ
मैं आशिक़ हूँ तद्बीरों का
1

Editor

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget