है नज़र का इशारा सम्भल जाइए - अनीता १९६७

Anita 1967 Hindi Movie

गीत: है नज़र का इशारा सम्भल जाइए । Hai nazar ka ishara sambhal jaaiye
चित्रपट: अनीता १९६७ | Anita 1967
संगीत: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल | Laxmikant Pyarelal
गीतकार: आनंद बक्षी | Anand Bakshi
स्वर: लता मंगेश्कर और उषा मंगेश्कर | Lata Mangeshkar & Usha Mangeshkar



गीत के बोल:

है नज़र का इशारा सम्भल जाइए
है नज़र का इशारा सम्भल जाइए
जाइए दिल की बातों में न आइए
है नज़र का इशारा सम्भल जाइए
है नज़र का इशारा सम्भल जाइए

वरना वही बात हो जायेगी
ग़म मुलाक़ात हो जायेगी
वरना वही बात हो जायेगी
दिन है मगर रात हो जायेगी
मेरे ज़ुल्फ़ें ख़ुदा न बिखराइए
है नज़र का इशारा सम्भल जाइए
है नज़र का इशारा सम्भल जाइए

इक़रार इंकार हो जाएगा
जीना भी दुश्वार हो जाएगा
हमें आपसे प्यार हो जायेगा
आप महफ़िल से उठके चले जाइए
है नज़र का इशारा सम्भल जाइए
है नज़र का इशारा सम्भल जाइए

शोलों को यूँ न हवा दीजिए
इस आग बस बुझा दीजिए
मैं याद आऊँ भुला दीजिए
मेरी आँखों से न आँखें टकराइए
है नज़र का इशारा सम्भल जाइए

Roman Hindi Lyrics

hai nazar ka ishara sambhal jaiye
hai nazar ka ishara sambhal jaiye
jaiye dil ki bato me na aaiye
hai nazar ka ishara sambhal jaiye
hai nazar ka ishara sambhal jaiye

varna wahi bat ho jayegi
gam se mulakat ho jayegi
varna wahi bat ho jayegi
din hai magar rat ho jayegi
meri zulfe khuda na bikhraiye
hai nazar ka ishara sambhal jaiye
hai nazar ka ishara sambhal jaiye

ikrar inkar ho jayega
jina bhi duswar ho jayega
hume aap se pyar ho jayega
aap mehfil se uthke chale jaiye
hai nazar ka ishara sambhal jaiye
hai nazar ka ishara sambhal jaiye

sholo ko yu na hawa dijiye
is aag ko bas bujha dijiye
mai yaad aau bhula dijiye
meri aankho se na aankhe takraiye
hai nazar ka ishara sambhal jaiye

Post a Comment

[disqus][blogger]

Editor

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget