करवटें बदलते रहे सारी रात हम - आप की क़सम १९७४

Aap Ki Kasam 1974
गीत: करवटें बदलते रहे सारी रात हम | Karawatein badalate rahe sari raat ham
चित्रपट: आप की क़सम १९७४ | Aap Ki Kasam 1974
संगीत: राहुलदेव बर्मन | Rahul Dev Burman
गीतकार: आनंद बक्षी | Anand Bakshi
स्वर: लता मंगेश्कर और किशोर कुमार | Lata Mangeshkar & Kishor Kumar



गीत के बोल:

करवटें बदलते रहे, सारी रात हम
आप की क़सम, आप की क़सम
ग़म न करो, दिन जुदाई के बहोत हैं कम
आप की क़सम, आप की क़सम

याद तुम आते रहे, एक हूक सी उठती रही
नींद मुझ से, नींद से मैं, भागती छुपती रही
रात भर बैरन निगोड़ी चांदनी चुभती रही
आग सी जलती रही, गिरती रही शबनम

झील सी आँखों में आशिक़ डूब के खो जाएगा
जुल्फ के साये में दिल अरमाँ भरा सो जाएगा
तुम चले जाओ, नहीं तो कुछ ना कुछ हो जाएगा
डगमगा जायेंगे ऐसे हाल में क़दम

रूठ जायें हम तो तुम हमको मना लेना सनम
दूर हों तो पास हमको, तुम बुला लेना सनम
कुछ गिला हो तो गले हमको लगा लेना सनम
टूट न जाए कभी ये प्यार की क़सम

Roman Hindi Lyrics:


karawatein badalate rahe, saaree raat ham
aap kee qasam, aap kee qasam
gham naa karo, din judaai ke bahot hain kam
aap kee qasam, aap kee qasam

yaad tum aate rahe, ek hook see uthhatee rahee
neend mujh se, neend se main, bhaagatee chhupatee rahee
raat bhar bairan nigodee chaandanee chubhatee rahee
aag see jalatee rahee, giratee rahee shabanam

jheel see aaankhon men aashiq doob ke kho jaaegaa
zulf ke saaye men dil, aramaan bharaa so jaaegaa
tum chale jaao, naheen to kuchh naa kuchh ho jaaegaa
dagamagaa jaayenge aise haal men kadam

roothh jaae ham to tum hamako manaa lenaa sanam
door hon to paas hamako, tum bulaa lenaa sanam
kuchh gilaa ho to gale hamako lagaa lenaa sanam
toot naa jaae kabhee ye pyaar kee qasam

Post a Comment

[disqus][blogger]

Editor

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget