मेरे देस में पवन चले पुरवाई, हो मेरे देस में - जिगरी दोस्त १९६९

Jigari Dost 1969 Anand Bakshi

गीत: मेरे देस में पवन चले पुरवाई, हो मेरे देस में / Mere Des Mein Pawan Chale Purwai
चित्रपट: जिगरी दोस्त १९६९ / Jigari Dost 1969
संगीत: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल / Laxmikant Pyarelal
गीतकार: आनंद बक्षी / Anand Bakshi
स्वर: मोहम्मद रफ़ी / Md Rafi

संस्करण 1



संस्करण 2



गीत के बोल:

मेरे देस में पवन चले पुरवाई, हो मेरे देस में
मेरे देस को देखने भाई सारी दुनिया आई

झिलमिल झिलमिल तारा चमके
डगमग डगमग नैया डोले
रिमझिम बादल बरसे रामा हो
गुनगुन गुनगुन भँवरे घूमे
झरझर झरझर झरने झूमे
छम छम पायल बाजे रामा हो
गैया नाचे, बाँसुरी बजाए रे कन्हाई

जीवन अपना सुंदर सपना
कौन पराया कौन है अपना
प्यार सभी का अपने दिल में हो
हर एक रंग के फूल हैं खिलते
हर मज़हब के लोग हैं मिलते
इस बगिया में इस महफ़िल में हो
हम सारे हैं भारतवासी, सब हैं भाई भाई

अंबुआ की डाली पे कोयल
गीत सुनाए कोमल कोमल
मेरे बाग़ की कलियों के हो
पतझड़ मस्त बहारों जैसे
पत्थर भी हैं तारों जैसे
मेरे गाँव की गलियों के
मेरे खेत की मट्टी ने सोने की सूरत पाई

Roman Hindi Lyrics:


mere des men pawan chale purawaai, ho mere des men
mere des ko dekhane bhaai saaree duniyaa aai

jhilamil jhilamil taaraa chamake
dagamag dagamag naiyaa dole
rimajhim baadal barase raamaa ho
gunagun gunagun bhanware ghoome
jharajhar jharajhar jharane jhoome
chham chham paayal baaje raamaa ho
gaiyaa naache, baaansuree bajaae re kanhaai

jeewan apanaa sundar sapanaa
kaun paraayaa kaun hai apanaa
pyaar sabhee kaa apane dil men ho
har ek rng ke fool hain khilate
har majhab ke log hain milate
is bagiyaa men is mahafil men ho
ham saare hain bhaaratawaasee, sab hain bhaai bhaai

anbuaa kee daalee pe koyal
geet sunaae komal komal
mere baagh kee kaliyon ke ho
patajhad mast bahaaron jaise
patthar bhee hain taaron jaise
mere gaaanw kee galiyo ke
mere khet kee mattee ne sone kee soorat paai

Post a Comment

[disqus][blogger]

Editor

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget