परदेसियों से न अँखियाँ मिलाना - जब-जब फूल खिले १९६५

Jab jab phool khile 1965

गीत: परदेसियों से न अँखियाँ मिलाना | Pardeshiyon se na ankhiyaan milana
चित्रपट: जब जब फूल खिले १९६५ । Jab jab phool khile 1965
संगीत: कल्याणजी आनंदजी । Kalyanji Anandji
गीतकार: आनंद बक्षी | Anand Bakshi
स्वर: मो० रफ़ी | Md Rafi
कलाकार: शशि कपूर, नंदा | Shashi Kapoor



गीत के बोल:
परदेसियों से ना, अँखियाँ मिलाना x२
परदेसियों को है, एक दिन जाना x२

परदेसियों से ना, अँखियाँ मिलाना

प्यार से अपने ये नहीं होते x२
ये पत्थर हैं ये नहीं रोते x२
इनके लिए न आँसू बहाना

परदेसियों से ना, अँखियाँ मिलाना
परदेसियों से ना, अँखियाँ मिलाना

न ये बादल न ये तारे x२
ये काग़ज़ के फूल हैं सारे x२
इन फूलों के न बाग़ लगाना
परदेसियों से ना, अँखियाँ मिलाना


हमने यही एक बार किया था x२
इक परदेसी से प्यार किया था x२
रो रो के कहता है दिल ये दिवाना
परदेसियों से ना, अँखियाँ मिलाना

आती है जब ये रुत मस्तानी x२
बनती है कोइ ना कोई कहानी x२
अब के बस देखे बने क्या फसाना
परदेसियों से ना, अँखियाँ मिलाना

सच ही कहा है पंछी इनको
रात को ठहरे तो उड़ जाए न दिन को
आज यहा.न कल वहाँ है ठिकाना
परदेसियों से ना, अँखियाँ मिलाना

बाग़ों में जब जब फूल खिलेंगे
तब तब ये हरजाई मिलेंगे
गुज़रेगा कैसे पतझड़ का ज़माना
परदेसियों से ना, अँखियाँ मिलाना

परदेसियों से ना, अँखियाँ मिलाना x२
परदेसियों को है, एक दिन जाना x२

परदेसियों से ना, अँखियाँ मिलाना

Roman Hindi Lyrics
paradesiyo se na ankhiya milana
paradesiyo se na ankhiya milana
paradesiyo ko hai ik din jana
paradesiyo se na ankhiya milana
paradesiyo se na ankhiya milana

pyar se apne ye nahi hote
pyar se apne ye nahi hote
ye patthar hai ye nahi rote
ye patthar hai ye nahi rote
inke liye na aansu bahaana
paradesiyo se na ankhiya milana
paradesiyo se na ankhiya milana

na ye badal na ye tare
na ye badal na ye tare
ye kagaz ke phul hai sare
ye kagaz ke phul hai sare
in phulo ke na bag lagana
paradesiyo se na ankhiya milana
paradesiyo se na ankhiya milana
paradesiyo ko hai ik din jana
paradesiyo se na ankhiya milana
paradesiyo se na ankhiya milana

Post a Comment

This comment has been removed by the author. -

सुन्दर गीत परदेशी से प्यार ना करनाराज विवेचना

[disqus][blogger]

Editor

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget