आनंद बक्षी जीवनी - भाग १

आनन्द बक्षी यह वह नाम है जिसके बिना आज तक बनी बहुत बड़ी-बड़ी म्यूज़िकल फ़िल्मों को शायद वह सफलता न मिलती जिनको बनाने वाले आज गर्व करते हैं। ...

आनन्द बक्षी यह वह नाम है जिसके बिना आज तक बनी बहुत बड़ी-बड़ी म्यूज़िकल फ़िल्मों को शायद वह सफलता न मिलती जिनको बनाने वाले आज गर्व करते हैं। आनन्द साहब चंद उन नामी चित्रपट(फ़िल्म)गीतकारों में से एक हैं जिन्होंने एक के बाद एक अनेक और लगातार साल दर साल बहुचर्चित और दिल लुभाने वाले यादगार गीत लिखे, जिनको सुनने वाले आज भी गुनगुनाते हैं, गाते हैं। जो प्रेम गीत उनकी कलम से उतरे उनके बारे में जितना कहा जाये कम है, प्यार ही ऐसा शब्द है जो उनके गीतों को परिभाषित करता है और जब उन्होंने दर्द लिखा तो सुनने वालों की आँखें छलक उठीं दिल भर आया, ऐसे गीतकार थे आनन्द बक्षी। दोस्ती पर शोले फ़िल्म में लिखा वह गीत 'यह दोस्ती हम नहीं छोड़ेगे' आज तक कौन नहीं गाता-गुनगुनाता। ज़िन्दगी की तल्ख़ियों को जब शब्द में पिरोया तो हर आदमी की ज़िन्दगी किसी न किसी सिरे से उस गीत से जुड़ गयी। गीत जितने सरल हैं उतनी ही सरलता से हर दिल में उतर जाते हैं, जैसे ख़ुशबू हवा में और चंदन पानी में घुल जाता है। मैं तो यह कहूँगा प्रेम शब्द को शहद से भी मीठा अगर महसूस करना हो तो आनन्द बक्षी साहब के गीत सुनिये। मजरूह सुल्तानपुरी के साथ-साथ एक आनन्द बक्षी ही ऐसे गीतकार हैं जिन्होने 43 वर्षों तक लगातार एक के बाद एक सुन्दर और कृतिमता(बनावट)से परे मनमोहक गीत लिखे, जब तक उनके तन में साँस का एक भी टुकड़ा बाक़ी रहा।

Ashim Samanta, Anand Bakshi, RD Burman, Mithun Chakraborthy and Shakti Samanta

सुनिए सबसे पहले रफ़ी साहब की आवाज़ में ये खूबसूरत प्रेम गीत -



21 जुलाई सन् 1930 को रावलपिण्डी में जन्मे आनंद बक्षी से एक यही सपना देखा था कि बम्बई (मुम्बई) जाकर पाश्र्व(प्लेबैक) गायक बनना है। इसी सपने के पीछे दौड़ते-भागते वे बम्बई आ गये और उन्होंने अजीविका के लिए 'जलसेना (नेवी), कँराची' के लिए नौकरी की, लेकिन किसी उच्च पदाधिकारी से कहा सुनी के कारण उन्होंने वह नौकरी छोड़ दी। इसी बीच भारत-पाकिस्तान बँटवारा हुआ और वह लखनऊ में अपने घर आ गये। यहाँ वह टेलीफोन आपरेटर का काम कर तो रहे थे लेकिन गायक बनने का सपना उनकी आँखों से कोहरे की तरह छँटा नहीं और वह एक बार फिर बम्बई को निकल पड़े।

उनका यही दीवानापन था जिसे किशोर ने अपना स्वर दिया -



बम्बई जाकर अन्होंने ठोकरों के अलावा कुछ नहीं मिला, न जाने यह क्यों हो रहा था? पर कहते हैं न कि जो होता है भले के लिए होता है। फिर वह दिल्ली तो आ गये और EME नाम की एक कम्पनी में मोटर मकैनिक की नौकरी भी करने लगे, लेकिन दीवाने के दिल को चैन नहीं आया और फिर वह भाग्य आज़माने बम्बई लौट गये। इस बार बार उनकी मुलाक़ात भगवान दादा से हुई जो फिल्म 'बड़ा आदमी(1956)' के लिए गीतकार ढूँढ़ रहे थे और उन्होंने आनन्द बक्षी से कहा कि वह उनकी फिल्म के लिए गीत लिख दें, इसके लिए वह उनको रुपये भी देने को तैयार हैं। पर कहते हैं न बुरे समय की काली छाया आसानी से साथ नहीं छोड़ती सो उन्हें तब तक गीतकार के रूप में संघर्ष करना पड़ा जब तक सूरज प्रकाश की फिल्म 'मेहदी लगी मेरे हाथ(1962)' और 'जब-जब फूल खिले(1965)' पर्दे पर नहीं आयी। अब भाग्य ने उनका साथ देना शुरु कर दिया था या यूँ कहिए उनकी मेहनत रंग ला रही थी और 'परदेसियों से न अँखियाँ मिलाना' और 'यह समा है प्यार का' जैसे लाजवाब गीतों ने उन्हें बहुत लोकप्रिय बना दिया। इसके बाद फ़िल्म 'मिलन(1967)' में उन्होंने जो गीत लिखे, उसके बाद तो वह गीतकारों की श्रेणी में सबसे ऊपर आ गये। अब 'सावन का महीना', 'बोल गोरी बोल', 'राम करे ऐसा हो जाये', 'मैं तो दीवाना' और 'हम-तुम युग-युग' यह गीत देश के घर-घर में गुनगुनाये जा रहे थे। इसके आनन्द बक्षी आगे ही आगे बढ़ते गये, उन्हें फिर कभी पीछे मुड़ के देखने की ज़रूरत नहीं पड़ी।

फ़िल्म मिलन का ये दर्द भरा गीत, लता की आवाज़ में भला कौन भूल सकता है -



यह सुनहरा दौर था जब गीतकार आनन्द बक्षी ने संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के साथ काम करते हुए 'फ़र्ज़(1967)', 'दो रास्ते(1969)', 'बॉबी(1973'), 'अमर अकबर एन्थॉनी(1977)', 'इक दूजे के लिए(1981)' और राहुल देव बर्मन के साथ 'कटी पतंग(1970)', 'अमर प्रेम(1971)', हरे रामा हरे कृष्णा(1971' और 'लव स्टोरी(1981)' फ़िल्मों में अमर गीत दिये। फ़िल्म अमर प्रेम(1971) के 'बड़ा नटखट है किशन कन्हैया', 'कुछ तो लोग कहेंगे', 'ये क्या हुआ', और 'रैना बीती जाये' जैसे उत्कृष्ट गीत हर दिल में धड़कते हैं और सुनने वाले के दिल की सदा में बसते हैं। अगर फ़िल्म निर्माताओं के साक्षेप चर्चा की जाये तो राज कपूर के लिए 'बॉबी(1973)', 'सत्यम् शिवम् सुन्दरम्(1978)'; सुभाष घई के लिए 'कर्ज़(1980)', 'हीरो(1983)', 'कर्मा(1986)', 'राम-लखन(1989)', 'सौदागर(1991)', 'खलनायक(1993)', 'ताल(1999)' और 'यादें(2001)'; और यश चोपड़ा के लिए 'चाँदनी(1989)', 'लम्हे(1991)', 'डर(1993)', 'दिल तो पागल है(1997)'; आदित्य चोपड़ा के लिए 'दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे(1995)', 'मोहब्बतें(2000)' फिल्मों में सदाबहार गीत लिखे। बख्शी साहब पर और बातें करेंगें इस लेख के अगले अंक में तब तक फ़िल्म महबूबा का ये अमर गीत सुनें, और याद करें उस गीतकार को जिसने आम आदमी की सरल जुबान में फिल्मी किरदारों को जज़्बात दिए.



- जिसके गीतों ने आम आदमी को अभिव्यक्ति दी - आनंद बख्शी | आवाज़

COMMENTS

BLOGGER: 6
Loading...
Name

अजय चक्रवर्ती,1,अनवर,1,अनीता,1,अनु मलिक,1,अनुराधा पौडवाल,2,अनूप जलोटा,1,अपनापन,1,अमर प्रेम,4,अमित कुमार,2,अमिताभ बच्चन,1,अल्का याग्निक,3,आ गले लग जा,2,आदित्य नारायण,1,आनंद बक्षी,3,आप की क़सम,1,आप बीती,1,आमने सामने,1,आराधना,7,आवारगी,1,आशा भोंसले,6,इश्क़ पर ज़ोर नहीं,1,उत्तम सिंह,5,उदित नारायण,7,उषा मंगेश्कर,1,एक दूजे के लिए,3,एस पी बालासुब्राह्मण्यम,1,कच्चे धागे,1,कटी पतंग,4,कर्मा,1,कल्याणजी-आनंदजी,8,कविता कृष्णमूर्ति,1,किशोर कुमार,25,कुमार शानू,1,कृष्णा बोस,1,गदर,5,ग़ुलाम अली,1,चाँदनी,1,चुपके-चुपके,1,जतिन-ललित,4,जब जब फूल खिले,1,जवानी दीवानी,1,जिगरी दोस्त,1,जीने की राह,1,जीवन गीत,15,जुआरी,1,जूली,2,ज्योति,1,डर,1,तेरे मेरे सपने,1,द ग्रेट गैम्बलर,1,द ट्रेन,1,दर्द भरे गीत,18,दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे,5,देवर,1,देश भक्ति गीत,4,दोस्त,1,नमक हराम,2,नसीब,1,नाम,1,नुसरत फ़तेह अली ख़ान,1,पंकज उधास,1,पति पत्नी और वो,1,परदेस,1,पिया का घर,1,पुष्पांजलि,1,प्रवीन सुल्ताना,1,प्रीति उत्तम सिंह,2,प्रेम गीत,46,प्रेरक गीत,1,फ़र्ज़,1,फूल बने अंगारे,2,बेताब,1,बॉबी,1,भक्ति गीत,2,मनप्रीत कौर,1,मनहर उधास,2,मन्ना डे,2,महाचोर,1,मि. एक्स इन बॉम्बे,1,मिलन,1,मुकेश,4,मुबारक बेग़म,1,मेहबूब की मेहंदी,1,मेहबूबा,1,मैं तुलसी तेरे आँगन की,3,मो० रफ़ी,14,मोहम्मद अज़ीज़,1,यश चोपड़ा,8,रवींद्र जैन,1,राकेश पंडित,1,राजा और रंक,1,राजेश रोशन,2,राहुल देव बर्मन,26,रेशमा,1,रोमांस,1,रोशन,1,लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल,27,लता मंगेश्कर,37,लम्हे,1,लव स्टोरी,1,लोरी,1,विजू शाह,1,विधाता,2,विनोद राठोड़,1,विरह गीत,5,विशाल भारद्वाज,1,शंकर महादेवन,1,शक्ति सामंत,1,शरद कुमार,1,शालीमार,1,शिव-हरि,3,शोले,1,श्याम घनश्याम,1,श्रीमान फंटूश,1,सचिन देव बर्मन,10,सत्यम् शिवम् सुन्दरम्,1,सनी,2,साधना सरगम,1,सुखविंदर सिंह,1,सुदेश भोंसले,1,सुभाष घई,2,सुमन कल्याणपूर,1,सुरेश वाडकर,2,हरिहरन,1,हरे रामा हरे कृष्णा,1,हंस राज हंस,1,हिन्द युग्म,2,हीरा पन्ना,1,हीरो,3,हेमा सरदेसाई,1,होली गीत,4,
ltr
item
Anand Bakshi Blog - Legendary Bollywood Lyricist: आनंद बक्षी जीवनी - भाग १
आनंद बक्षी जीवनी - भाग १
http://3.bp.blogspot.com/-ApJcojWl62s/Vdqqi3_paHI/AAAAAAAASIU/qDtalO4wxlo/s1600/ashim-samanta-anand-bakshi-r-d-burman-mithun-chakraborthy-and-shakti-samanta.jpg
http://3.bp.blogspot.com/-ApJcojWl62s/Vdqqi3_paHI/AAAAAAAASIU/qDtalO4wxlo/s72-c/ashim-samanta-anand-bakshi-r-d-burman-mithun-chakraborthy-and-shakti-samanta.jpg
Anand Bakshi Blog - Legendary Bollywood Lyricist
https://www.anandbakshi.com/2015/08/anand-bakshi-biography-hindi.html
https://www.anandbakshi.com/
https://www.anandbakshi.com/
https://www.anandbakshi.com/2015/08/anand-bakshi-biography-hindi.html
true
7209966541405266147
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS CONTENT IS PREMIUM Please share to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy