मैं शायर बदनाम - नमक हराम (१९७३)

गीत: मैं शायर बदनाम | Main Shayar Badnaam
चित्रपट: नमक हराम । Namak Haram (1973)
संगीत: राहुल देव बर्मन । R.D. Burman
गीतकार: आनंद बक्षी । Anand Bakshi
स्वर: किशोर कुमार । Kishor Kumar

 Main Shayar Badnaam Namak Haram



गीत के बोल:


मैं शायर बदनाम, हो मैं चला, मैं चला
महफ़िल से नाकाम, हो मैं चला, मैं चला
मैं शायर बदनाम...

मेरे घर से तुमको, कुछ सामान मिलेगा
दीवाने शायर का, एक दीवान मिलेगा
और इक चीज़ मिलेगी, टूटा खाली जाम
हो मैं चला, मैं चला
मैं शायर बदनाम...

शोलों पे चलना था, काँटों पे सोना था
और अभी जी भरके, किस्मत पे रोना था
जाने ऐसे कितने, बाकी छोड़के काम
हो मैं चला, मैं चला
मैं शायर बदनाम...

रस्ता रोक रही है, थोड़ी जान है बाकी
जाने टूटे दिल में, क्या अरमान है बाकी
जाने भी दे ऐ दिल, सबको मेरा सलाम
हो मैं चला, मैं चला
मैं शायर बदनाम...

No comments:

Post a Comment